क्या आप भी अपने बच्चो से रहते है, परेशान?

0
are-you-worried-for-your-childs-misbehavior-9

are-you-worried-for-your-childs-misbehavior-8

आखिर कियूं आज के वक़्त में बहुत सारे परिवारों में उनके बच्चे उनकी बात नहीं मानते या फिर माँ बाप की इज्जत नहीं करते, माँ बाप के साथ बुरा व्यव्हार करते है, शैतानों जैसा | दुनिया मे अपनी समझ पाते ही वो खुद को आपने माँ बाप से बड़ा समझदार मान ने लगते है ?

नमस्कार, मेरा नाम है प्रतीक मल्होत्रा और आप पढ़ रहे है भकत न्यूज़ के विशेष भाग का पहला लेख |

इस लेख को पढ़ने वाला या तो कोई धार्मिक इंसान होगा या फिर इस समस्या से झूझ रहा होगा | अक्सर हम जब परेशान होते है तो किसी धार्मिक स्थान पर जाकर खुद को अच्छा महसूस करते है | तो इस लेख को भी मैं धार्मिक तरीके से पेश करना चाहूंगा |

यह कहानी है एक संत और एक बूढी औरत की, बात आज़ादी के कुछ सालो बाद की है एक जगह पर धार्मिक समागम में संत आकर सत्संग कर रहे थे | जब सत्संग ख़तम हुआ तो एक बूढी औरत आकर संत के आगे रोने लगी |

are-you-worried-for-your-childs-misbehavior-2

पहले दिन तो संत ने उस बूढी औरत की और ध्यान नहीं दिया बाकी लोगो ने धक्के मारकर बूढी औरत को पीछे कर दिया ताकि वो माथा टेक सके | दूसरे दिन सत्संग में बूढी औरत पहले ही आ पहुंची ताकि उनकी मुलाकात संत जी से हो पाए |

लेकिन फिर उसको निराशा हाथ लगी और संत जी ने सत्संग शुरू कर दिया औरत कियुँकि सबसे पहले आयी थी इसलिए सबसे आगे बैठने का मौका उसे ही मिला था | सत्संग ख़तम होने बाद बूढी औरत फिर गयी और रोने लगी फिरसे भीड़ ने पीछे कर दिया और संत जी को माथा टेकना शुरू कर दिया |

तीसरे दिन जब औरत गयी तो उसे पता चला इस शहर में संत जी का इस साल का आज आखिरी समागम है | औरत बूढी थी उसे समझ आ गया अगर आज बात हुयी तो ठीक वर्ना शायद कभी बात ना हो पाए |

रोज की तरह भीड़ बहुत ज्यादा थी औरत भी पीछे बैठी थी लेकिन आपने सवालों के जवाब आज उसे हर हाल में चाहिए थे | संत जी ने सत्संग ख़तम किया तो भीड़ फिरसे माथा टेकने के लिए खड़ी हुई |

are-you-worried-for-your-childs-misbehavior-5

संत ने कहा सब आराम से बैठ जाए और सब हैरान होकर एक दूसरे की और देखने लगे की पहले कभी संत जी ने ऐसा नहीं कहा, आज क्या बात हुई संत जी ने खड़े सेवादार से कहा उस औरत को आगे लेकर आओ जो पीछे खड़ी आंसू बहा रही है ?

सेवादार ने उनका हुकुम मानते हुए उस बूढी औरत को आगे लाया, संत ने कहा दो दिन से मैं देख रहा हूँ आप बहुत परेशान है, कुछ सवालों के जवाब चाहती है, मैं सही बोल रहा हूँ ? औरत ने भीगी आँखों के साथ हां में सर हिलाया |

संत ने पूछा तो बताओ क्या परेशानी है, बूढी औरत बोली मैंने हमेशा आपने माँ बाप की सेवा की अपनी पति की सेवा की अपने सांस ससुर की सेवा की लेकिन मेरी औलाद मुझे पानी का गिलास भी नहीं पूछती आखिर भगवान ने मेरे साथ ऐसा कियूं किया ?

इतने में एक और महिला खड़ी हो गयी ऐसा मेरे साथ भी है और ऐसे ही बहुत सारे पुरुष और महिलाये खड़े हो गए | संत जी ने कहा सब बैठ जाओ और उन्होंने कहा मैं तीन कारण बताऊंगा लेकिन यह तीनो कारणों में से एक या उससे ज्यादा कारण आपकी जिंदगी से जुड़े होंगे, मतलब आपको आपके सवालों के जवाब मिल जायेंगे |

वो तीन कारण जान ने के लिए “आगे पढ़े” बटन पर क्लिक करें

next-page-bhakat-news-button

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here