हार्दिक पांड्या ने तोडा मैदान पर नेहरा का आखिरी सपना

0
hardik-pandya-broke-the-heart-of-ashish-nehra-2

hardik-pandya-broke-the-heart-of-ashish-nehra-1

भारत न्यूजीलैंड में 3 मैचों की वनडे सीरीज़ 2-1 से जीत कर भारत ने अपने नाम कर ली थी | जिसके बाद भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहला टी-20 मुकाबला फ़िरोज़ शाह कोटला के मैदान पर था | यह मैच दो तरह से ख़ास था क्योंकि पहला तो आशीष नेहरा को जीत के साथ विदाई देनी थी दूसरा न्यूजीलैंड के खिलाफ टी-20 अपना खता खोलना था |


लगभग 19 साल पहले अपना पहला अंतरष्ट्रीय मैच टेस्ट क्रिकेट के रूप में खेलने वाले नेहरा ने पहले ही ब्यान दे दिया था की फ़िरोज़ शाह कोटला में खेले जाने वाला मैच उनके जीवन का आखिरी अंतराष्ट्रीय मैच होगा |

टीम इंडिया ने बिना रोहित और शिखर के ओपनिंग करते हुए अर्थशतक परियों से 202 रनो का लक्ष्य न्यूजीलैंड के सामने रख दिया | न्यूजीलैंड 203 रन बनाने के लिए मैदान पर आयी लेकिन चहल ने न्यूजीलैंड को दूसरे ओवर में झटका देते हुए मार्टिन गप्टिल को पांड्या के हाथो कैच पकड़ा दिया |

hardik-pandya-broke-the-heart-of-ashish-nehra-3

हर एक खिलाड़ी की चाह होती है की उसका अंतिम मैच उसके लिए एक सुहानी याद बनकर रहे, लेकिन हार्दिक पांड्या ने आशीष नेहरा का सपना चकना चूर कर दिया | विराट कोहली ने तीसरे ओवर के लिए आशीष नेहरा के हाथ में गेंद पकड़ा दी थी |

लेकिन इस ओवर की पांचवी गेंद पर मनरो का एक कैच हार्दिक पंड्या ने छोड़ दिया | हालांकि कैच आसान नहीं था, कवर से दौड़ लगाते हुए पांड्या ने कैच को लपकने की कोशिश की लेकिन सफल होने में नाकाम रहे |

hardik-pandya-broke-the-heart-of-ashish-nehra-5

उसके बाद ऐसा मौका ही नहीं बना की आशीष नेहरा को कोई विकेट मिल सके, जिसके चलते आशीष नेहरा अपने आखिरी अंतरष्ट्रीय मैच में विकेट लेने में नाकाम रहे | लेकिन अपने 19 साल के क्रिकेट में उनका भारतीय टीम के लिए योगदान बहुत ज्यादा अहम् था, उनकी गेंदबाजी से हमने कई मैच जीते है |

आपको बता दें की आशीष नेहरा ने अपना आखिरी टेस्ट 2004 में सौरव गांगुली की कप्तानी में खेला था, आखिरी वनडे 2011 विश्वकप में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में खेला था और अब टी-20 का आखिरी मैच 2017 विराट कोहली की कप्तानी में खेला |

You May Also Read
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here