जाने क्यों घर में पड़ी मां की लाश को छोड़ KBC खेल रही थी अनुराधा

0
know-why-was-the-anuradha-playing-kbc-2

know-why-was-the-anuradha-playing-kbc-3

इस साल एक अमानवीय घटना KBC में देखने को मिली जब अनुराधा अग्रवाल नाम की महिला घर में हुई मां की मौत बावजूद हॉट सीट पर बैठकर KBC में सवालों के जवाब दे रही थी | अनुराधा अग्रवाल ने कुल 12 सवालों के सही जवाब दिए और 12 लाख 50 हजार रुपए की राशि जीत कर घर को चली गयी | यह एपिसोड 20 और 21 सितंबर 2017 को दिखाया गया था | लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि अनुराधा अग्रवाल ने ऐसा किया क्यों ? क्या अनुराधा अग्रवाल के लिए पैसे और KBC इतना महत्वपूर्ण था कि उसने मां की मौत के बावजूद घर जाने की बजाए KBC को खेलना जरुरी समझा और लेकिन उससे भी बड़ी बात यह थी की KBC के संचालक खुद अनुराधा अग्रवाल को तीन चार दिन बाद बुला सकते थे |


आप यह भी नहीं कह सकते थे की हॉट सीट पर बैठेने वाली लड़की को पैसों की दिक्कत होगी, घर चलाने में दिक्कत होगी, तो नहीं बल्कि वह अनुराधा अग्रवाल छत्तीसगढ़ के मुंगेली से आईं डिप्टी कलेक्टर थीं | आपको बतादे की शो में भाग लेने से कुछ समय पहले ही अनुराधा अग्रवाल की माँ के दिहांत का उनको पता चल गया था लेकिन उन्होंने अपने परिवार से बात करके शो में भाग लेना सही समझा जो की एक अमानवीय घटना है |

आपको बताना चाहेंगे की अनुराधा अग्रवाल एक पोलियो पीड़ित महिला है | उनकी दोनों टाँगे पोलियो की वजह से काम करना बंद कर चुकी है जिसकी वजह से उन्हें वॉकर के सहारे चलना पड़ता है | इन सब परेशनियों और माँ की मौत के बावजूद उनका KBC खेलने का एक ख़ास मकसद था अनुराधा अग्रवाल KBC से जीती हुई राशि से अपने भाई की किडनी का इलाज करवाना चाहती हैं | अनुराधा अग्रवाल के पास पैसे तो थे लेकिन इतने नहीं की अपने भाई की किडनी का इलाज़ करा सके तो उन्होंने इसके लिए साड़ी मुश्किलें झेली |

know-why-was-the-anuradha-playing-kbc-1

लेकिन इन सब हलातों से निकल कर अनुराधा अग्रवाल को बहुत साड़ी परेशानियों का सामना करना पढ़ा | दरअसल अनुराधा अग्रवाल ने KBC 9 में भाग लेने के लिए सरकार से इजाजत मांगी थी लेकिन सरकार ने वक़्त पर जवाब नहीं दिया और अनुराधा अग्रवाल अपने भाई के कारण इस शो में आ गयी | इसी बात पर इतना बवाल खड़ा हो गया की KBC 9 का यह एपिसोड तक रुकवाने की मांग होने लगी थी जिसमे अनुराधा अग्रवाल को दिखाया गया था | लेकिन कहते है न नियत साफ़ हो तो नियति भी साफ़ हो जाती है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here