अभी अभी : केंद्र सरकार ने रोहिंग्या मुसलमान के लिए लिया यह फैसला

0
right-now-the-decision-taken-by-the-central-government-for-rohingya-muslims-1
Loading...

right-now-the-decision-taken-by-the-central-government-for-rohingya-muslims-3

देश के सेक्युलर नेताओं को ढेंगा दिखाते हुए रोहिंग्या मुस्लिमों को वापस अपने देश म्यांमार भेजने के मामले में बीजेपी की सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल किया है | सुप्रीम कोर्ट में बीजेपी सरकार ने कहा कि रोहिंग्या मुसलमान भारत में नहीं रह सकते हैं | रोहिंग्या मुसलमान भविष्य में भारत देश की सुरक्षा के लिए खतरा बन जायेंगे | बीजेपी की सरकार को ये खुफिया जानकारी के तहत पता चला है की कुछ रोहिंग्या मुसलमान आतंकी संगठनों के साथ मिले हुए हैं |


वैसे तो देश के सुप्रीम कोर्ट को इस मामले में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए | ये मौलिक अधिकारों के तहत हि नहीं आता है या फिर कह लीजिए ये मामला हमारे संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत नहीं आता है | आपको बता दे की बता दें कि भारत में करीब 40 हजार रोहिंग्या मुस्लिम अवैध तौर पर रह रहे हैं कुछ ने तो सरकारी डॉक्यूमेंट जैसे आधार कार्ड इत्यादि तक बनवा लिए है | भारत की केंद्र सरकार संयुक्त राष्ट्र संघ के नियमों के अनुरूप कार्रवाई करने के लिए बिलकुल स्वतंत्र है | सुप्रीम कोर्ट भारत सरकार की इस अर्ज़ी पर 18 सितंबर को सुनवाई करेगा |

केंद्र में मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दलील दी कि है कि रोहिंग्या मुसलमान भारत की सुरक्षा के लिए खतरा हैं, इसलिए रोहिंग्या मुसलमानो को वापस भेजना देशहित में है | सरकार ने कहा कि हमें मिली जानकारी के अनुसार कुछ रोहिंग्या मुसलमान आतंकी गतिविधियों में लिप्त हैं और इनमें से कुछ रोहिंग्या मुसलमान जो की आतंकियों से मिले हुए है वो दिल्ली, जम्मू, मेवात में सक्रिय हैं |

right-now-the-decision-taken-by-the-central-government-for-rohingya-muslims-4

जैसा की अपने देखा होगा कि इससे पहले कुछ दिन पहले ही देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी अपने ब्यान में रोहिंग्या शरणार्थियों को देश के लिए खतरा बताया था | गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि रोहिंग्या शरणार्थी भारत की सुरक्षा के लिए बहुत बड़ा खतरा हैं गैरकानूनी ढंग से रह रहे विदेशी प्रवासियों से मजबूती से निपटा जाना चाहिए यही हमारे देशहित में है |


गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि रोहिंग्या मुसलमानों को जल्द उनके देश वापस भेजने के मामले में कार्रवाई की जाएगी | हम देश की सुरक्षा के लिए बन रहे खतरे की आशंका को पूरी तरह से खारिज नहीं कर सकते | राजनाथ सिंह जी आगे कहते है की मैंने अवैध प्रवासियों के मुद्दे पर अपना रुख को पहले ही साफ कर दिया था |

वहीं संयुक्त राष्ट्र की बात करे तो वह के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर बिगड़े हुए हालातों पर चिंता जताई | गुटेरेस की माने तो जो रोहिंग्या मुसलामानों के साथ पुरे विश्व में जो हो रहा है, वो इंसानियत और मानवता के बिलकुल खिलाफ है | दरअसल, पिछले हफ्ते में ही करीब 1 लाख 25 हजार रोहिंग्या मुसलमान बंग्लादेश में डेरा जमाकर बैठ गए हैं और अब ये आकंड़ा बढ़ता हुआ करीब 3 लाख 80 हजार तक पहुंच चुका है |

right-now-the-decision-taken-by-the-central-government-for-rohingya-muslims-5

शायद आपको पता न हो लेकिन जम्मू में रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों ने सीधा केंद्र सरकार के उस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनोती दे दी है जिसमें केंद्र सरकार का कहना है की उन्हें जल्द वापिस म्यांमार वापस भेज देना चाहिए |

म्यांमार ने भी पहले रोहिंग्या मुसलमान को नागरिकता देने से इनकार किया था | जिसके बाद म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानो ने बहुत आतंक मचाया बाद में जब बोधो ने हथ्यार उठाकर इनका संहार करना शुरू किया तो रोहिंग्या मुसलमान भारत और बांग्लादेश भागकर आ गए और इन्होने अपने जम्मू, हैदराबार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली-एनसीआर आदि जगहों पर अवैध रूप सड़कों पर कब्ज़े करके रहना शुरू करने लगे | सरकारी आंकड़ों के हिसाब से भारत में करीब 40 हजार रोहिंग्या मुसलमान अवैध रूप से डेरा जमाये बैठे हैं, असल में यह गिनती कितनी ज्यादा है वो कोई नहीं बता सकता |

अभी इनकी संख्या कितनी है सिर्फ 40 हज़ार और यह अपने नाज़ायज हक़ के लिए सीधा केंद्र सरकार के सामने सुप्रीम कोर्ट में खड़े हो गए है | अगर इनकी आबादी और बड़ी तो क्या होगा शायद आप अंदाजा भी नहीं लगा सकते |

उदाहरण के तौर पर 100 करोड़ हिन्दू है और 20 करोड़ मुसलमान मतलब अभी हम 5 गुना ज्यादा है उनसे लेकिन फिर भी हम राम मंदिर नहीं बना पा रहे | अगर यह संख्या 40-50 प्रतिशत तक पहुँच गयी तो आप अंदाज़ा लगाए की हिन्दुवों का तब क्या होगा |

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here