संबित पात्रा जी ने राहुल गाँधी को बताया मौलाना

0
sambit-patra-says-rahul-is-maulana-1
Loading...

sambit-patra-says-rahul-gandhi-is-maulana-2

राम मंदिर की 5 दिसंबर की सुनवाई को लेकर देश भर में हिन्दू कांग्रेस से नाराज़ चल रहे है जिसे सोशल मीडिया पर देखा जा सकता है | लेकिन इसके साथ बीजेपी, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह और अन्य नेताओं के निशाने पर कांग्रेस एंड गाँधी प्राइवेट लिमिटेड के अध्यक्ष राहुल गाँधी उर्फ़ खान है |

बीजेपी के स्पोकपर्सन संबित पत्र ने राहुल गाँधी उर्फ़ खान पर निशाना साधते हुए शायराना अंदाज़ में कहा की ‘बदलते हुए मौसम का परवाना हूं मैं, गुजरात में जनेऊधारी हिंदू हूं तो यूपी-बिहार में मौलाना हूं मैं” |

संबित पात्रा ने बाबरी मस्जिद के पक्ष के वकील और कांग्रेस एंड गाँधी प्राइवेट लिमिटेड के नेता कपिल सिब्बल पर भी निशाना साधा, संबित पात्रा ने कहा की आज हाजी महबूब के बयान के बाद साफ़ हो गया है की कपिल सिब्बल से हुई केस से पहले इन दोनो की मुलाक़ात में राम मंदिर के फैसले को टालने का विचार बन गया था |

sambit-patra-says-rahul-gandhi-is-maulana-3

संबित पात्रा ने साफ़ कहा की कपिल सिब्बल बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी या सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड की तरफ़ से नहीं बल्कि कांग्रेस के मुस्लिम वोट बैंक की तरफ से कोर्ट में पेश हुए थे | उन्होंने कहा कपिल सिब्बल राम मंदिर को जुलाई 2019 तक टालने की बात बिना सोनिया और राहुल की मंजूरी से नहीं कर सकते थे |

संबित पात्रा ने साफ़ किया की कोर्ट में बैठे जज कांग्रेस एंड गाँधी प्राइवेट लिमिटेड के गुलाम नहीं है, जो उनके कहने पर चलेंगे अगर कोर्ट ने कह दिया है की राम मंदिर की सुनवाई रोज़ होगी तो उसे कोई चैलेंज नहीं कर सकता |

बीजेपी के नेता ने भी कहा की कांग्रेस ने ट्रिपल तलाक़ में भी अपना वोट बैंक ढूंढ निकला था और ट्रिपल तलाक़ का विरोध किया था जबकि कोर्ट से फैसला आने के बाद सभी धर्मों की महिलाएं खुश थी | हर फैसला वोट बैंक को ध्यान में रखकर नहीं किया जा सकता कुछ जनता की भलाई के लिए कड़े फैसले करने ही पड़ते है |

sambit-patra-says-rahul-gandhi-is-maulana-4

उन्होंने कहा राहुल गाँधी खुद को हिन्दू कहे कोई आपत्ति नहीं, जनेऊधारी कहें शिव भक्त कहें या पंडित कहें लेकिन काम से काम राम मंदिर पर अपना रुख तो साफ़ करे | अगर वो शिव भक्त है तो इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता की शिव का सबसे बड़ा भक्त रावण था और अगर रावण था तो राम भी थे |

फिर कांग्रेस राम और रामायण को कालपनिक कैसे मान सकती है, कैसे वो कह सकते है की राम केवल एक महान कवी की रचना है, वास्तिवकता से इसका कोई लेना देना नहीं है | कांग्रेस को राम मंदिर पर अपना रुख साफ़ करना चाहिए खासकर कांग्रेस गुलामों के पंडित जनेऊधारी राहुल गाँधी जिसका दादा मुसलमान था |

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here