मुर्ख ही नहीं महामूर्ख है नरेंद्र मोदी : आनंद शर्मा

0
anand-sharam-slams-prime-minister-narendra-modi-090218-1

anand-sharam-slams-prime-minister-narendra-modi-090218-3

कांग्रेस के गुलाम यानी प्रवक्ता आनंद शर्मा ने देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साथते हुए एक भद्दा ब्यान दिया है | कांग्रेसी गुलाम यानी प्रवक्ता आनंद शर्मा ने नरेंद्र के खिलाफ ब्यान उस बात को लेकर दिया जो उन्होंने संसद में सरदार वलभ भाई पटेल को ज्यादा वोट प्राप्त होने के बाद भी प्रधान मंत्री न बनाये जाने को लेकर की थी |

आपको बताना चाहेंगे प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद में कांग्रेस पर सवाल उठाते हुए कहा था की आप लोग किस लोकतंत्र की बात करते है ? जब 14 वोट पाने वाले सरदार पटेल को छोड़कर 1 वोट पाने वाले नेहरू को अपने प्रधान मंत्री बनाया |

अगर सरदार पटेल देश के पहले प्रधान मंत्री होते तो कश्मीर की समस्या ही न होती, देश की आज हर बड़ी समस्या का कारण नेहरू है जिसे अपने लोकतंत्र की हत्या कर प्रधान मंत्री बना दिया था | कांग्रेस में 60 सालों में 90 बार राष्ट्रपति शाषन लगाकर गैर कांग्रेसी सरकार राज्यों में गिरायी है |

इस बात को कवर-अप करने के लिए कांग्रेस ने अपने होनहार गुलाम यानी प्रवक्ता आनंद शर्मा को मीडिया के सामने भेजा था | कांग्रेसी गुलाम यानी प्रवक्ता ने इतिहास को बदलते हुए ब्यान दिया की यह बात झूठ है की सरदार पटेल को ज्यादा वोट मिले थे, साड़ी दुनिया जानती थी की नेहरू ही प्रबल दावेदार है |

anand-sharam-slams-prime-minister-narendra-modi-090218-2

आनंद शर्मा ने कहा उस समय नेहरू के सामने सरदार पटेल दावेदार जरूर थे लेकिन कांग्रेस ने नेहरू को वोटिंग की थी | नरेंद्र मोदी ने देश को गुमराह करने की कोशिश की है और यह इतिहास के साथ भी अपमान किया है | नरेंद्र मोदी को इतिहास पढ़ने की जरूरत है, उन्हें इतिहास के बारे में कुछ नहीं पता |

आनंद शर्मा ने कहा नरेंद्र मोदी उस विचारधारा से सम्बन्ध रखते है, जिसने कभी सवतंत्रता संग्राम में हिस्सा ही नहीं लिया | आनंद शर्मा ने कहा मोदी को शायद पता नहीं है की दिसंबर 1946 में संविधान सभा में पेश किया गया था जिसकी अगुवाई नेहरू ने की थी |

उन्होंने कहा सविंधान के प्रस्तावना में नेहरू का योगदान बहुत बड़ा था और इस संघर्ष में बाद में अन्य नेता सरदार बल्लभ भाई पटेल, मौलाना आजाद, राजेन्द्र प्रसाद और अन्य बड़े नेता भी संघर्ष में शामिल हो गए थे |

आनंद शर्मा ने कहा की नेहरू की तारीफ तो खुद सरदार वलभ भाई पटेल भी किया करते थे | अब सोचने वाली बात यह है की मोदी क्या सारा देश जानता है उस समय वोट नेहरू को नहीं सरदार पटेल को मिले थे, फिर इतिहास पढ़ने की जरूरत कांग्रेस के गुलामों को है या भारतवासियों को ?

anand-sharam-slams-prime-minister-narendra-modi-090218-4

आपको बताते की नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा था की आप कोंग्रेसियों ने महात्मा गाँधी की एक बात नहीं थी, उन्होंने आज़ादी के तुरंत बाद कहा था अब देश आज़ाद हो गया है कांग्रेस का मकसद पूरा हुआ अब कांग्रेस को खत्म कर दो लेकिन अपने नहीं सुना |

नेहरू के प्रधान मंत्री बनने के भी महात्मा गाँधी खिलाफ थे लेकिन कोंग्रेसियों और नेहरू की जिद्द के चलते सरदार वलभ भाई को छोड़कर नेहरू को देश का पहला प्रधान मंत्री बनाना पड़ा | जिसका नुक्सान आज तक देश भुक्त रहा है, अगर सरदार पटेल प्रधान मंत्री बनते तो आज देश खुशहाल होता चारो तरफ अमन शांति होती |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − 10 =