दिल्‍ली के इस मार्किट में लड़कियाँ लगाती है लड़को के जिस्‍म की बोली

0
gigolo-market-flesh-trade-of-boys-flourishing-in-delhi-india-1

gigolo-market-flesh-trade-of-boys-flourishing-in-delhi-india-2

शायद आपको याद होगा की कुछ साल पहले एक फिल्म आयी थी जिसमे एक लड़का पैसे की तंगी के चलते देह व्यापार में फास जाता है और उस फिल्म का नाम था बी ए पास | लेकिन अब आपको बताना चाहेंगे की देश में कुछ बड़े शहरों में लड़को का देहव्यापार बहुत ज्यादा फल फूल रहा है |

लड़को के देह व्यापार में लड़कियां मार्किट में आकर उनकी बोली लगाती है | इस तरह की मार्किट को जिगोलो मार्केट के नाम से जाना जाता है | आज हम आपको जिगोलो मार्केट के बारे में कुछ तथ्य बताने जा रहे है |

आपको जानकार हैरानी होगी की दिल्ली में प्रमुख इलाकों जैसे सरोजनी नगर, लाजपत नगर, पालिका मार्किट तथा कमला नगर मार्किट में जैसे ही रात होती है लड़को की वेश्यावृति के लिए बजार सज जाते है | यहाँ पर बड़े घरानों की बिगड़ी शहजादियाँ आकर अपने मनपसंद लड़के के लिए बोली लगाती है |

रात के अँधेरे में जब दिल्ली की सड़को पर भीड़भाड़ काम होती है उसके बाद ही वेश्यावृति में फसे लड़को का समय शुरू हो जाता है | आपको बताना चाहेंगे की इस तरह के व्यापार में जो बोलिया लगती है उन्हें कोई आम परिवार की लड़किया नहीं लगा सकती |

gigolo-market-flesh-trade-of-boys-flourishing-in-delhi-india-3

लड़को की एक रात के लिए खरीद फरोख्त के लिए यह मंडिया शहर के कॉफ़ी हाउसों, पबों आदि में लगती है और खरीद फरोख्त के लिए त्यार लड़को को जिगोलो कहा जाता है | सूत्रों से मिले आंकड़ों के अनुसार इन जिगोलो की कीमत 1800 से 3000 रूपए प्रति घंटा तक की हो सकती है |

लेकिन अगर किसी लड़की को जिगोलो के साथ पूरी रात गुजारनी है तो उसे एक रात का 8000 रूपए तक देना पद सकता है | सबसे हैरानी की बात है की महिला सेक्स वर्कर से जिगोलो का रेट कही ज्यादा होता है |

आपको बताना चाहेंगे की अगर लड़की जिगोलो को अपने घर या शहर से बहार लेजाना चाहती है तो उसके लिए उसे अलग से पैसे देने पड़ते है | काम ख़त्म होने के बाद यह शर्त रखी जाती है की अगर वो दुबारा कभी मिलेंगे तो एक दूसरे को नहीं पहचानेंगे |

जिगोलो को खरीदने के लिए लड़किया ही नहीं बल्कि समलैंगिक पुरुष भी बोलिया लगाते है | जिगोलो को ट्रेनिंग देने के लिए भारत में बहुत सारी आर्गेनाइजेशन काम कर रही है | जो यह ट्रेनिंग देती है की किस तरह से एक मर्द को एक लड़की के साथ बात करनी होती है और अपने कस्टमर को किस तरह से पूरी तरह से संतुष्ट किया जाये |

gigolo-market-flesh-trade-of-boys-flourishing-in-delhi-india-4

जिगोलो का एक ख़ास कोड होता है जिससे वो अपने प्राइवेट पार्ट की लम्बाई को बताते है | वो अपने प्राइवेट पार्ट के लम्बाई जितना गले में रुमाल या एक तरह का पट्टा लटका कर रखते है | सड़को से शुरू हुआ यह धंदा अब साउथ दिल्ली के कई जाने मने बड़े होटल्स तक पहुँच चूका है |

आपको बताना चाहेंगे की इन होटल्स में जिगोलो की पहचान गले में रुमाल या फिर किसी तरह के पट्टे से नहीं बल्कि काली पतलून और सफ़ेद शर्ट के साथ होती है | आपको बताना चाहेंगे की कॉफ़ी या चाय की चुस्कियां लेते यह जिगोले अपने ग्राहक की तलाश में रहते है जो सही किम्मत देता है उसके साथ या रात गुजार लेते है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 − two =