जॉर्डन को लेकर मोदी के इस ब्यान से कट्टरपंथियों हुए परेशान

0
jordan-king-abdullah-ii-arrives-at-rashtrapati-bhawan-010318-1

jordan-king-abdullah-ii-arrives-at-rashtrapati-bhawan-010318-5

आज देश के प्रधान मंत्री ने विज्ञान भवन में आयोजित इस्लामिक हेरिटेज के कार्यक्रम के दौरान भाषण देते हुए कहा की जॉर्डन नरेश की इस्लाम की पहचान बनाने के लिए अपनी अहम् भूमिका अदा की हुई है |

जिस जॉर्डन का नाम जॉर्डन का नाम संतों और पैंगबरों के पैरोकार या आवाज़ बनकर सारी दुनिया में गुंजा है | आपको बताना चाहेंगे की इस कार्यक्रम में जॉर्डन के किंग अब्दुल द्वितीय बिन-अल-हुसैन के साथ साथ कई सारे इस्लामिक धर्म गुरु मजूद थे |

वही जॉर्डन के किंग अब्दुल द्वितीय बिन-अल-हुसैन ने इस कार्यक्रम में अपना भाषण देते हुए कहा की मैं अपने परिवार को इस्लाम की विरासत के बारे में खुल कर बताता हूँ | पीएम मोदी के संबोधन की खास बातें :-

पहला – भारत की विरासत और मूल्य, हमारे मज़हबों का पैगाम और उनके उसूल ही वह शक्ति है जिनके बल पर हिंसा और दहशतगर्दी जैसी चुनौतियों को पार कर सकते हैं |

दूसरा – इंसानियत के खिलाफ दरिंदगी करने वाले अक्सर भूल जाते हैं कि वह उसी मजहब का नुकसान कर रहे हैं, जिसका वह होने का दावा करते हैं |

तीसरा – आतंकवाद एवं कट्टरता के खिलाफ लड़ाई किसी धर्म के विरूद्ध नहीं बल्कि युवाओं को दिग्भ्रमित करने वाली मानसिकता के खिलाफ है |

चौथा – आतंकवाद और उग्रवाद और कट्टरपंथ को खत्म करने के लिए भारत, जॉर्डन के साथ खड़ा है |

पांचवा – भारत में अगर तरक्की चाहते हैं तो हर एक नागरिक को साथ लेकर चलने की आवश्यकता है |

छठा – भारत की आबोहवा में सभी धर्मों ने सांस ली है.जॉर्डन नरेश की मौजूदगी गर्व का विषय है |

jordan-king-abdullah-ii-arrives-at-rashtrapati-bhawan-010318-4

आज जॉर्डन किंग का राष्ट्रपति के भवन में किया गया है भव्य स्वागत

आपको बताना चाहेंगे की विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में जाने से पहले जॉर्डन किंग राष्ट्रपति भवन पहुंचे थे, यहाँ पर इनका भव्य स्वागत किया गया और यहाँ पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पहले से मजूद थे |

दोनों देशो में द्विपक्षीय बातचीत हैदराबाद में होगी

आज यानी गुरूवार 1 मार्च 2018 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और जॉर्डन के किंग अब्दुल्ला के बीच एहम मुद्दों पर बातचीत की जाएगी | इस बात चीत में फलस्तीन के मुद्दों के साथ आतंकवाद और चरमपंथ से निपटने को लेकर और इनको बढ़ावा देने वाली ताकतों को रोकने तक बात चीत हो सकती है | इससे ठीक पहले केंद्रीय कैबिनेट ने बुधवार को भारत और जॉर्डन के बीच श्रम शक्ति, स्वास्थ्य के क्षेत्र में समझौतों की बातचीत के लिए भी मंजूरी दे दी थी |

jordan-king-abdullah-ii-arrives-at-rashtrapati-bhawan-010318-3

सम्मान में दिया जायेगा राष्ट्रपति भवन में भोज

आपको बताना चाहेंगे के की किंग जार्डन के टेक्नीकल इंस्टीट्यूट्स में भारत से सहयोग बढ़ाने के लिए आइआइटी दिल्ली में गए थे | जिसके साथ ही किंग अब्दुल्ला द्वितीय गुरुवार को इंडियन इस्लामिक सेंटर की तरफ से विज्ञान भवन में अपने आयोजित प्रोग्राम का व्याख्यान भी देंगे | बताया जा रहा है की इसी प्रोग्राम के बाद राष्ट्रपति सम्मान में राष्ट्रपति भवन में सबको भोज उपलब्थ करवाएंगे इस भोज में उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ साथ अन्य कई बड़े नेता शामिल होंगे |

आपको बता दे की पैगंबर मुहम्मद के वंशज है किंग अब्दुल्ला

शायद आपको जानकर थोड़ी सी हैरानी होगी की किंग अब्दुल्लाह द्वितीय बिन अल हुसैन पैगंबर मुहम्मद के 41वीं पीढ़ी के वंशज है और इसके साथ साथ उन्हें उन्हें कट्टरवाद और आतंकवाद से लड़ने के लिए वैश्विक पहल करने के लिए भी जाना चाहता है | अब्दुल्लाह द्वितीय बिन अल हुसैन पैगंबर मुहम्मद अल-अक्सा मस्जिद के संरक्षक भी है जो की मुसलमानो की तीसरी सबसे पवित्र धार्मिक स्थल है और यह मस्जिद यरुशलेम के पुराने शहर में मजूद है | यह वही येरुशलम है जिसके लिए भारत ने यूनाइटेड स्टेट्स में ईरान और अमेरिका के खिलाफ जाकर वोट किया था |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

9 − three =