बच्चों के भविष्य को लेकर माँ बाप भी करते है गलतियां

parents-also-make-mistakes-about-the-future-of-children-090518-1

आज हम बात करने जा रहे है बच्चों के भविष्य को लेकर, जैसा की हम सब जानते है देश और दुनिया में बेरोजगारी है। लेकिन किस तरह की नौकरियों में है? सिविल इंजिनीरिंग, कॉमर्स वालों के लिए, वकीलों के लिए और सरकारी नौकरियों का सपना सज़ाए बैठे लोगों के लिए।

क्या कभी माँ बाप ने सोचा जिस लाइनों में पहले से करोड़ो बच्चे बेरोज़गार है, हम अपने बच्चे को उसी लाइन की पढ़ाई करवा कर उसका भविष्य क्यों खराब करने पर तुले है? आज हम जानते है आने वाले 10 से 20 साल में क्या होगा।

parents-also-make-mistakes-about-the-future-of-children-090518-2

90 के दशक में बहुत सारी कम्पनीज़ थी लेकिन जेफ्फ बेज़ोस ने एक विज़न देखा, तब इंटरनेट ने आम लोगो तक पहुंचना शुरू ही किया था। तब उन्होंने सोचा क्यों न कुछ ऐसा बनाए के घर बैठे लोग जरुरत का सामान मंगवा सके तो उन्होंने अपनी जॉब को छोड़ अपने गैराज में amazon वेबसाइट बनाई।

आज वो दुनिया के सबसे अमीर इंसान है बिल गेट्स की जहा कुल संपत्ति मात्र 90 बिलियन डॉलर है वही जेफ्फ बेज़ोस की 112 बिलियन डॉलर। ऐसा क्यों हुआ क्यूंकि उन्होंने आने वाले समय को देखा जाना और उसपर काम किया ना की दूसरी माइक्रोसॉफ्ट कंपनी बनाने के बारे में सोचा।

parents-also-make-mistakes-about-the-future-of-children-090518-3

पूरी दुनिया 3d और इससे ऊपर के डाइमेंशन्स, वर्चुअल रियलिटी VR, ऑगमेंटेड रियलिटी AR, होलोग्राम टेक्नोलॉजी, नैनो टेक्नोलॉजी, माइक्रो टेक्नोलॉजी और रिन्यूएबल एनर्जी के ऊपर जोरों से काम कर रही है। पूरी दुनिया उम्मीद लगाए बैठी है की पता नहीं क्या चमत्कार होने वाला है।

लेकिन इस फील्ड में कम्पीटीशन बिलकुल ज़ीरो है, पता है क्यों, क्यूंकि यह काम एक विज़न का है, फेसबुक से पहले कितनी कंपनियां थी लेकिन मार्क का आईडिया इतना कारगर था की सारी कंपनियां खत्म, उसने कोई कॉम्पिटिशन नहीं छोड़ा। फेसबुक के होते हुए वत्स एप्प आया और बाद में कॉम्पिटिशन को खत्म करने के लिए मार्क को वत्स एप्प खरीदना पड़ा।

parents-also-make-mistakes-about-the-future-of-children-090518-4

लेकिन हम अपने बच्चों को अपने दूर के रिश्तेदार को देख जो की मृत्युशया पर पहुँच चूका होता है, लेकिन अपने समय के कामयाब (डॉक्टर, वकील, चार्टेड अकाउंट या MLM में हाई लेवल को हासिल कर चुके) इंसान को देख कर सोचते है, हम भी अपने बच्चे को ऐसा बनाएंगे।

तो आप बताइए आप अपने बच्चे को भविष्य के बच्चों से बेहतर बनाने की सोच रहे है या बेरोज़गारी की लाइन में एक और इंसान बढ़ाने के बारे में सोच रहे है। अच्छा लगे तो शेयर कर दीजिएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × one =